Connect with us

HEALTH

यदि आप भी मोटापा कम करना चाहते है तो भूलकर भी न करें ये गलतियां, इन बातों का रखे ध्यान

Published

on

आज के दौर में हर कोई चाहता है कि स्लिम बॉडी हो, शायद ही कोई इंसान होगा जिसे मोटापा पसंद होगा। इससे इंसान भद्दा तो दिखता ही है, साथ ही यह कई तरह की बीमारिया भी उत्पन्न कर देता है। मोटापे से छुटकारा पाने के लिए न जाने कितने लोग जिम में दिन-रात पसीना बहाने से लेकर डायटिंग भी की होगी। शायद फिर भी कोई रिजल्‍ट न मिल पाया हो।अभी तक आप समझ गए होंगे कि मोटापा घटाना कितना चुनौतीपूर्ण काम है। सिर्फ एक्सरसाइज या डायटिंग करने मात्र से चर्बी कम नहीं हो सकती है, बल्‍कि उन छोटी-छोटी सामान्य गलतियों पर भी ध्यान रखना चाहिए, जो आप अपने मोटापे को कम करने की कोशिश करते समय अक्सर करते हैं।

कैलोरी इन्टेक सही नहीं होना

बहुत लोगों को इस लगता है की वो सिर्फ कड़ी कसरत करेंगे और पतले हो जायंगे, जबकि ऐसा सोचना बिलकुल गलत है। एक्सरसाइज के साथ-साथ अपनी डाइट पर भी ध्यान देना जरूरी है। यहां बस आपको थोड़ी गणित लगानी है। दरसल आपको बस अपने पूरे दिन के कैलोरी इन्टेक को काउंट करना है और आप एक्सरसाइज में कितनी बर्न कर रहे हो उसका हिसाब रखना है। याद रहे कैलोरी इन्टेक हमेशा बर्न हुई कैलोरी के मुकाबले कम हो। शायद आपको यह बताने की आवश्यकता नहीं ही हो की शराब आपकी सेहत के लिए कितनी खतरनाक है। ज्यादातर ड्रिंक में शुगर अधिक मात्रा में होता है, जो आपके शरीर के लिए नुकसानदायक है। साथ ही शराब आपको धीरे-धीरे कमजोर और आलसी बना देती है। इसमे भरपूर मात्रा में कैलोरी होती है, जो मोटापा बढ़ाने में मदद करती है। मोटापा कम करने की जंग तब तक आप नही जीत सकते है जब तक आपमें आलस हो।

वर्कआउट एवं एक्‍सरसाइज आपको काफी तेजी से कैलोरी बर्न में मदद कर सकता है। साथ ही वर्कआउट को नियमित करें अब ये नहीं कि चार दिन में केवल एक बार। वरना आपको सही रिजल्‍ट नहीं मिल पाएगा। एक अध्ययन के मुताबिक, तनाव के कारण भी शरीर में कोर्टिसोल हार्मोन बढ सकता है, जो आपके मेटाबॉलिज्म को धीमा कर देता है। यदि मेटाबॉलिज्म की दर कम हो गई तो ऐसे स्थिति में आपका वजन या आपके पेट की चर्बी कम होने की संभावना काफी कम हो जाती है। जिससे हार्ड वर्कआउट के बाद भी आपका वजन बढ़ा हुआ नजर आता है। तनाव और चिंता कम करने के लिए आप मेडिटेशन की मदद ले सकते हैं, इससे दिमाग शांत रहता है। एक हेल्दी प्रोटीनयुक्त डाइट लेने से आपका पेट लंबे समय तक भरा हुआ रहता है। इससे आपको अधिक ऊर्जा भी मिलेगी और यह आपको लंबे समय तक ज्यादा कैलोरी वाले खाने से बचने में भी मदद करता है। ये आपके मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है। साथ ही वजन घटाने के दौरान मासपेशियों की भी रक्षा करता है।

कोरोना काल के दौरान इसका सीधा असर युवाओं पर हुआ है। अधिक देर रात जागना और सुबह लेट से उठना हमारे सेहत के लिए नुकसानदायक होता है। कम नींद आपकी बॉडी में कोर्टिसोल तो बढ़ाएगी ही साथ ही जंक फूड की क्रेविंग भी तेज कर देगी। यह दोनों ही बातें डाइट के लिए हानिकारक हैं। इसलिए यह अतिआवश्यक है की आप एक दिन में 6 से 8 घंटे की नींद जरूर ले। बहुत से लोग वजन कम करने की कोशिश में वेट लिफ्टिंग में विश्वास नहीं करते। हालांकि, स्ट्रेंथ और स्टैमिना शरीर को मजबूत करता है खासकर जब आप पेट और जांघ की चर्बी कम करना चाह रहे हों, तो वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज की सलाह दी जाती है। वेट लिफ्टिंग से आपकी बॉडी का पोस्‍चर भी ठीक होता है और साथ ही आपकी बॉडी अंदर और बहार दोनों तरफ से स्‍ट्रंग नजर आती है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी प्रकार से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। अधिक जानकारी के लिए आप हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें। जब भी मोटापा कम करने की बात आती है, तो कैलोरी कम करना सबसे महत्वपूर्ण होता है। लेकिन कैलोरी कम करने के चक्कर में कई बार हम जरूरी माइक्रो न्यूट्रिएंट्स अपनी डाइट से हटा देते हैं। ऐसा करने से आपकी मसल लॉस शुरू हो जाती है और शरीर में से अतिरिक्त पानी निकल जाता है। जिससे वजन तेजी से कम होता है और फिर तेजी से बढ़ भी जाता है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

HEALTH

जानिए बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम करने में कैसे मददगार है अदरक, ऐसे करें सेवन

Published

on

यूरिक एसिड के मरीजों को उन चीजों के सेवन से बचना चाहिए, जिनमें प्यूरीन की मात्रा अधिक हो। यूरिक एसिड बढ़ने पर आपको अपनी डाइट का भी खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। अगर हमारे शरीर में यूरिक एसिड का स्तर अचानक से बढ़ जाए तो यह खतरनाक होने के साथ-साथ कई बीमारियों का कारण भी बन सकता है। जब शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है तो इसका असर शरीर के अंगों पर पड़ने लगता है।

जोड़ों के दर्द से भी आप ब्लड शुगर, गठिया, हृदय रोग और मोटापे जैसी कई समस्याओं के शिकार हो सकते हैं। इसलिए यूरिक एसिड के मरीजों को उन चीजों के सेवन से बचना चाहिए, जिनमें प्यूरीन की मात्रा अधिक हो। यूरिक एसिड बढ़ने पर आपको अपनी डाइट का भी खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। ऐसे में दवाओं के अलावा कुछ घरेलू नुस्खे अपनाकर बढ़े हुए यूरिक एसिड को भी नियंत्रित किया जा सकता है। यह घरेलू उपाय अदरक का है। तो आइए जानते हैं कि अदरक कैसे बढ़े हुए यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में मददगार होता है। साथ ही जानिए इसके इस्तेमाल का सही तरीका।

जानिए अदरक कैसे करेगा यूरिक एसिड को कंट्रोल

अमूमन सभी ने अदरक का सेवन किया होगा। अदरक का उपयोग न केवल भोजन के रूप में किया जाता है, बल्कि यह बढ़े हुए यूरिक एसिड के स्तर को नियंत्रित करने में भी कारगर है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो बढ़े हुए यूरिक एसिड को नियंत्रित करने में कारगर माने जाते हैं। इसके साथ ही यह सूजन और दर्द को कम करने में भी मददगार होता है।

डॉक्टर मरीज इस प्रकार हैं:

रोग के रोगियों में अलग-अलग सुगंध होती है। आप दस्तावेज़ का मसौदा तैयार कर सकते हैं या नहीं भी कर सकते हैं। इसके बाद 10. फिर से रोग मुक्त करें। प्रक्षेपण से देखें। सबसे पहले अदरक को छीलकर कद्दूकस कर लें और एक चम्मच अदरक को पानी में डालकर उबाल लें। इसके बाद एक साफ कपड़े को पानी में भिगो दें। जब पानी ठंडा हो जाए तो इसे प्रभावित जगह पर लगाएं। ऐसा दिन में कम से कम एक बार करें। ऐसा करने से आपको आराम मिलेगा।

Disclaimer: यह जानकारी आयुर्वेदिक नुस्खे के आधार पर लिखी गई है। Fit Health इसकी सफलता या इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता है। इनका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

Continue Reading

Trending